Sports

भारत का पहला क्रिकेट टैस्ट मैच

भारत का पहला क्रिकेट टैस्ट मैच

C K Naidu Indain First Cricket Captain

C K Naidu Indain First Cricket Captain

Mohmad Nisaar - First Indian Bowlar

Mohmad Nisaar – First Indian Bowler

विश्व के सभी देशों में लोग खेलों के दीवाने हैं। लेकिन भारत में लोग सिर्फ एक खेल के दीवाने हैं। क्रिकेट भारत में सिर्फ एक खेल नही बल्कि एक धर्म बन चुका है। भारत के लिए क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ी आज सिनेमा के सितारों की तरह देखे जाते हैं। मीडिया उनकी हर खबर पर नजर रखता है। दौलत और शौहरत उनके कदम चूमती है। भारत ही नहीं भारत के बाहर भी भारतीय क्रिकेट और क्रिकेटरों की पहचान है। बल्कि भारत का क्रिकेट बोर्ड आज दुनिया का सबसे अमीर और शक्तिशाली बोर्ड है। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद में भारत की तूती बोलती है। मगर इसकी शुरुआत इतनी आसान नहीं थी। भारत में ब्रिटिशराज के कारण क्रिकेट खेला जाने लगा था। एमजीआर आम लोगों से दूर था। सिर्फ अभिजात्य वर्ग के लोग ही क्रिकेट खेल पाते थे। उनके साथ उनके कुछ साधारण परिवारों के उनके मित्र भी कभी खेल लिया करते थे। ऐसे में इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका की तरह भारत में एक क्रिकेट टीम बनाने की आवश्यकता महसूस हुई। और आखिरकार भारत की पहली आधिकारिक टीम अपना पहला टैस्ट मैच खेलने के लिए तैयार की गई।

यह टीम अपना पहला क्रिकेट टैस्ट मैच खेलने के लिए इंग्लैंड गई। साल था 1932, और दिन था 25 जून, जब लॉर्ड्स में भारत का पहला क्रिकेट टेस्ट प्रारम्भ हुआ। भारत के पहले क्रिकेट कप्तान बनने का श्रेय मिला सी के नायडू को। इंग्लैंड ने टॉस जीता और भारत को पहले गेंदबाजी का मौका मिला। और भारत के लिए पहली गेंद फैंकने का श्रेय मिला तेज गेंदबाज मोहम्मद निसार को। उनका साथ दिया मध्यम गति के तेज गेंदबाज अमरसिंह ने। सब मानते थे कि विश्वप्रसिद्व इंग्लैंड का शक्तिशाली बल्लेबाजी क्रम भारत की अनुभवहीन गेंदबाजी की धज्जियां उड़ा देगा। और रनों का अंबार लगा देगा। आखिर महान वॉली हेमंड जैसे बल्लेबाज थे उस इंग्लैंड की टीम में।

मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ और इंग्लैंड की पूरी टीम सिर्फ 259 रन पर आउट हो गई। मोहम्मद निसार की तेज गेंदों ने इंग्लैंड की कमर तोड़ दी। उन्होंने 5 विकेट लिए। इस तरह वो 5 विकेट लेने वाले भारत के पहले गेंदबाज बने। तेज गेंदबाजी के लिए हमेशा कमजोर माने जाने वाले भारत के पहले ही टैस्ट मैच में भारत के एक तेज गेंदबाज ने 5 विकेट लिए थे, सोच कर भी आश्चर्य होता है। दूसरे तेज गेंदबाज अमरसिंह ने 2 विकेट लिए थे।

खैर भारत की पारी शुरू हुई, और भारत के लिए पहली गेंद खेलने का श्रेय मिला बल्लेबाज जनार्दन नेवल को। वैसे भारत की बल्लेबाजी नही चल पाई और पूरी टीम सिर्फ 189 रन पर आउट हो गई। वैसे ये भी कोई शर्म की बात नहीं, भारत के पिछले इंग्लैंड दौरों पर आज की महान भारतीय बल्लेबाजों की भी ऐसी ही हालत थी। फिर ये तो भारत का पहला मैच था। खैर इंग्लैंड को 70 रनों की बढ़त पहली इनिंग में मिली। दूसरी इनिंग में भी इंग्लिश बल्लेबाज भारतीय गेंदबाजों के सामने सहज नहीं थे और उन्होंने 8 विकेट पर 275 रन बना कर पारी घोषित कर दी। इस बार एक अन्य गेंदबाज जहांगीर खान ने 4 विकेट लिए। भारत को जीत के लिए 346 रनों का लक्ष्य मिला। मगर भारत की अनुभवहीन बल्लेबाजी के लिए ये सम्भव नही था। और पूरी टीम सिर्फ 187 रन पर आउट हो गई।

भारत ये मैच 158 रन से हार गया। मगर आने वाले सुनहरे भविष्य की नींव रख दी गई थी। इसके बाद भारत में काफी क्रिकेट खेला गया। गांव-गांव क्रिकेट पहुंच गया। क्रिकेट लोगों की जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया। मगर भारत का यह पहला टैस्ट मैच इतिहास के पन्नों पर अपनी जगह स्थापित कर गया।

Facebook

About the author

admin